देशभर में कोरोना की रफ्तार एक बार फिर से तेज हो गई है। राजधानी दिल्‍ली के अलावा कई राज्‍यों में कोरोना का प्रकोप अचानक से बहुत बढ़ गया है। इतना ही नहीं कोरोना के चलते मरीजों की मौत का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है। इस विषय को लेकर प्रधमंत्री मोदी की खास नजर ज्यादा प्रभावित राज्यों पर है। जिस पर जल्द ही कोई सख्त कदम उठाया जा सकता है।

ये 8 ज्यादा प्रभावित राज्य दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना संक्रमण के मुद्दे पर आज 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक किया। दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम की ये वर्चुअल मीटिंग सुबह 10.30 बजे से शुरू होनी थीं। बैठक में इन राज्यों में दोबारा तेजी से बढ़ रहे कोरोना मामलों पर रोकथाम के उपायों पर चर्चा हुई।

हालांकि इस विषय का इतना चिंतनीय होना जायज है क्योंकि इन सब की जड़ कोरोना वैक्सीन है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खुशखबरी दी है। सब कुछ ठीक रहा तो इस साल के अंत तक भारत में कोरोना का टीका लगना शुरू हो जाएगा। अब बस इमर्जेंसी अप्रूवल मिलने का इंतजार है।

गौरतलब है कि केंद्र पहले ही साफ कर चुकी है कि राज्यों को अलग से वैक्सीन का इंतजाम करने की जरूरत नहीं होगी बल्कि केंद्र सरकार सभी राज्यों को वैक्सीन मुहैया कराएगी।

सरकारी आकड़ों के अनुसार कोविड 19 संक्रमण के शिकार लोगों की कुल संख्या रविवार तक 133, 771 पहुंच गई है। जिनमें भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 91,40,191 को क्रास कर चुकी है लेकिन राहत भरी खबर ये है कि भारत में कोरोनो वायरस से होने वाली मृत्यु दर में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। भारत में कोरोनावायरस से होने वाली वर्तमान मृत्यु दर गिरकर 1.46% हो गई है।

 

शिवानी पटेल

English »